meri nazar meri duniya

Just another Jagranjunction Blogs weblog

8 Posts

1 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 25693 postid : 1383966

आप 'इतना मुस्कुराते' हैं कैसे ?

Posted On: 7 Feb, 2018 कविता में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

लोग कहते हैं – आप इतना मुस्कुराते हैं कैसे,
ज़िन्दगी को सुकून से बिताते हैं कैसे |
बहुत कष्ट हैं ज़िन्दगी में सभी को,
इन कष्टों को हँस कर मिटाते हैं कैसे |
खुशियाँ और ग़म तो सभी को हैं मिलती,
सिर्फ खुशियों को चुन कर आप लाते हैं कैसे |
लोग कहते हैं – आप इतना मुस्कुराते हैं कैसे ||


सुन कर सभी की मुस्कुरा हम हैं देते,
कश्मकश अपने दिल की दबा हम हैं देते |
किसको बताएं और कैसे बताएं उदासी को अपने छुपाते हैं कैसे,
हारते हैं, टूटते हैं, बिखरते हैं जब जब, नया स्वप्न फिर से सजाते हैं कैसे |
तोड़ कर अरमानों को अपने ही हाथों,
रूठे दिल को फिर से मनाते हैं कैसे |
न पूछों, न हमसे कहा जाएगा – ये हौसला हम खुद में जगाते हैं कैसे ||



Tags:

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



latest from jagran